निषेचन एवं भ्रूण विकास

निषेचन एवं भ्रूण विकास निषेचन शुक्राणु के साथ एक अंडाणु के संलयन की प्रक्रिया को निषेचन कहते हैं। निषेचन केवल तभी होता है, यदि अण्डाशय से अवमुक्त डिम्ब, डिम्ब वाहिनी के एम्पुलरी-इस्थमिक जंक्शन तक पहुँचता है तथा योनि में अवमुक्त हुआ शुक्राणु गर्भाशय ग्रीवा व गर्भाशय से होता हुआ यहाँ पहुँचता है। निषेचन द्वितीय अण्डक … Read more